सट्टा बाजार में कांग्रेस की बल्ले बल्ले

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बना रहा सट्टा बाजार।

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान के बाद जहां राजनीतिक पार्टियां अपनी अपनी जीत का दावा कर रहे हैं, वहीं चुनाव में 75 फीसदी वोटिंग के बाद एक बार फिर सट्टा बाजार में उछाल आया है। सट्टा बाजार का रुख शिवराज सरकार के खिलाफ जा रहे है। वोटिंग से पहले भी सट्टा बाजार बीजेपी के खिलाफ था। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सट्टा बाजार के मुताबिक कांग्रेस प्रदेश में सरकार बना सकती है। प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर के सट्टा बाजार में कांग्रेस की जीत पर बराबर का भाव लग रहा है। सटोरियों के हिसाब से प्रदेश में कांग्रेस को 116 से 120 सीटें मिल सकती हैं। 


सट्टा बाजार की मानें तो प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के आसार हैं। मतदान के एक दिन बाद ही सट्टा बाजार के इस ट्रेंड ने भाजपा में हड़कंप मचा दिया है। वहीं, सट्टा बाजार के हिसाब से प्रदेश में भाजपा को इस बार 99 से 101 सीट मिलने का अनुमान है। प्रदेश में 15 साल से बीजेपी की सरकार है और चौथी बार भी बीजेपी का दावा है कि प्रदेश में उनकी ही सरकार बनेगी, वहीं कांग्रेस को परिवर्तन पर उम्मीद है। 


किस पर कितना भाव


मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने पर सट्टा खेलने वालों के लिए भाव एक रुपए चल रहा है। जबकि भाजपा पर 1  रुपए 10  पैसे का भाव मिल रहा है। प्रदेश में बहुमत का आकड़ा 116 का है। अगर कांग्रेस इस आकड़े को छूने में कामयाब होती है तो सटोरिए जीतने वाले को एक रूपए 70 पैसे के हिसाब से रकम  देंगे। अगर भाजपा बहुमत का आंकड़ा पाती है तो बुकी दो रूपए 15 पैसे देंगे। इस तरह भाजपा के लिए खतरे की घंटी बज रही है। भाव ज्यादा होने से उसकी हार का डर बना है। जिसका भाव कम होता है उस पर ज्यादा लोग बेटिंग करते हैं।


चुनावी ट्रेंड सेट करता है सट्टा बाजार


सट्‌टा बाज़ार में चल रहे इस हार-जीत के खेल ने चुनावी माहौल को मसालेदार बना दिया है. बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही दलों के दिग्गज नेताओं की नज़र सट्‌टा बाजार पर गड़ी हैं. माना जाता है कि सट्‌टा बाजार चुनावी ट्रेंड को सेट करता है. इसलिए कमज़ोर पड़ रहे कई नेता अपने ख़ास लोगों के ज़रिए सट्टा बाज़ार में अपना पैसा लगा रहे हैं. लेकिन बहुत ही ईमानदारी से चलने वाले इस गैरकानूनी कारोबार में कोई सट्‌टा खेलने वाला नहीं मिल रहा है.


दूसरी तरफ मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक 20 दिन पहले मध्यप्रदेश के सट्टा बाजार में भाजपा की हवा थी। जबकि हवा का रुख पलटते देरी नहीं लगी और सट्टेबाजों ने स्थिति पलट दी। भोपाल का सट्टा बाजार 230 सीटों में से कांग्रेस को 116 से ज्यादा सीटें मिलने का दावा कर रहा है, जबकि भाजपा के पक्ष में 102 सीटें मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। यानी कांग्रेस बहुमत के आंकड़े तक पहुंच सकती है। बुकी मानते हैं कि  छत्तीसगढ़ में भी भाजपा जीत हासिल करने का दावा किया गया था। कांग्रेस राजस्थान में आ सकती है। बुकी का कहना है कि टिकट बंटवारे के बाद सट्टे के रेट में अंतर आ गया था। लेकिन, कांग्रेस के प्रचार अभियान को देखते हुए सट्टे बाजार में भी कांग्रेस प्रत्याशियों पर ज्यादा पैसा लगने लगा है। यानी अब कांग्रेस पार्टी की हवा बन रही है।

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours